« »

“खुद” से मुलाकात

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

एक रोज खुद से मुलाकात हुई ,
बातों ही बातों में कई बात हुई।
खुद से गिले- शिकवे थे हजारों ,
जैसे खुद में ही पड़ी थी दरार कोई।
मेरे अक्स ने पूछे सवाल कई,
न जाने कब से मुझसे नाराज थी,
नजरअंदाज करती रही मैं भी।
खो गयी क्यों भीड़ में दुनिया की ?
क्यों हो गयी तुम गुमनाम कहीं ?
पहली सी बन जाओ ,बना लो पहचान वही,
थाम लो हाथ मेरा और भर लो उड़न नई।

………………………राजश्री राजभर

One Comment

  1. Renu says:

    Hello!
    Nice to be reading your poem after a long time
    Very nicely written. Good bhavavyakti

Leave a Reply