«

चलो, एक वादा करते है हम

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

चलो, एक वादा करते है हम,
कि कोई वादा नहीं करेंगे हम,

यहाँ से कितनी दूर साथ जाना है,
ऐसा कुछ इरादा नहीं करेंगे हम,

कोई बात, कोई ग़म, कोई गुस्सा,
कुछ दिल में नहीं रखेंगे,

जब भी मौका मिलेगा बहकने का,
जरा भी नहीं संभलेंगे,

चलो, एक वादा करते है हम,
कि कोई वादा नहीं करेंगे हम!!

शायद वक़्त के किसी मोड़ पर, फिर आये हमे यह दिन याद,
शायद कभी मुड़ कर देखे हम, यह रस्ते और यह रात,

अगर देखे कभी,

तो ज़िन्दगी के इस अफ़साने में, हमे हर किस्सा शादाब मिले,
मोहब्बत भी हो, झगडे भी हो, पर अफ़सोस की ना कोई बात मिले,

खुदा ना करे कि ऐसा हो कभी,
कि यह ज़िन्दगी, एक अँधेरी रात सी लगने लगे,
पर अगर ऐसा हो, तो यह पल, यह लम्हे,
हमे, उस अँधेरी रात में,
एक महकाने से, जश्न मनाते नज़र आये,

बाहर की दुनिया से हो बेखबर,
हम भी इन वक़्त के प्यालों में,
हर हक़ीक़त, हर होश भूल जाये,

जितनी भी उदासी हो,
याद कर इस वक़्त को, एक दूसरे को,
चेहरे पर जैसे एक मुस्कराहट सी ठहर जाये,

तो ज़िन्दगी के इस छोटे से फ़साने में,
क्या कुछ दूर साथ मेरे, चलोगी तुम,
चलो, एक वादा करते है हम,
कि कोई वादा नहीं करेंगे हम!!

2 Comments

  1. Kusum says:

    Flow with time . Good one. Positive attitude.
    Kusum

Leave a Reply