« »

मैं

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

मैं
बस मैं था
और सब मेरे थे ।
उसके बाद –
बस मैं था
और मेरा “मैं” था ।
अब
बस मैं हूँ
और सिर्फ मैं हूँ ।

Leave a Reply