« »

पहली मुलाकात

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

वो पहली मुलाकात जो पहली नहीं है
रूहों की मुलाकात वक़्त की मोहताज नहीं है

रूह के इश्क़ की लज़्ज़तें ही कुछ और हैं
वह शख्स पराया हो के भी अपना लगता है

वह मेरा न हो कर भी मेरा है
मेरे दिल की यह सदा सिर्फ मेरी नहीं है

रूह के इश्क की आज़ादी भी अजब है
वो पराया मेरा हो के भी मेरा नहीं है

Leave a Reply