«

तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

दिल में लगी है जो आग , उसे मैं बुझाउ कैसे ?
मर के ? या जी के ?
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

तू सोती रही खुद के ख्वाबो में बेफिक्र
मैं तेरे ख्वाबो से बाहर आऊं कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

रेत की तरह एहसासों को बिखेर दिया तूने |
रेत की तरह एहसासों को बिखेर दिया तूने
बिखरे हुए उन रेतो से , फिर मैं वो एहसास बनाऊ कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

तोर दिए सब सपने, जो संजोये थे हमने
उन टूटे हुए सपनो को , फिर से मैं सजाऊँ कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

यूँ तो बहुत है इस दुनिया में
पर तेरी जैसी प्यारी सख्सियत , मैं खोज लाऊ कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

जख्म जो सीने में है अब , उसे मैं मिटाऊं कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

तेरे लिए वो खेल था , कोई बात नहीं
हारा मैं जो बाज़ी , उसे फिर से मैं जीत बनाऊ कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

तुमने ही छिन ली वो चाहत , जगी थी जो तेरे आने से
जीने की वो चाहत फिर से मैं लाऊ कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

तुम कहती थी ,कि मैं छोर जाऊंगा तुम्हे
पर तुमने ही छोर दिया |
इसे मैं तुम्हे समझाऊं कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

हम दोनों में फर्क नहीं है कुछ ज्यादा
इसे मैं तुम्हे समझाऊं कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

तुम कहती हो भूल जाओ |
तुम कहती हो भूल जाओ
खुद से ही खुद की तक़दीर मैं मिटाऊं कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

मिली है जो सुर्ख ऐ मोहब्बत एहसास मुझे
तेरे इस एहसान को मैं चुकाऊं कैसे
मर के ? या जी के ?
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

फेसबुक से तो अनफ्रेंड कर दिया
पर दिल के ट्विटर पे तुझे फॉलो करने से रोक पाऊ कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

सोचा था बात न करने से , भूला पाउँगा तुमको |
पर बात न करने से , जो बढ़ी है आग
उसे मैं बुझाऊँ कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

तेरे लिए आसान है दिल लगाना |
तेरे लिए आसान है दिल लगाना
इस टूटे हुए दिल को , फिर से मैं लगाऊं कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

तुम्हे भूला दू , ये साहस मैं लाऊ कैसे
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

मर के ? या जी के ?
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?
तू ही बता मैं तुम्हे भूलाऊ कैसे ?

One Comment

  1. NARESH dhawan says:

    Dil ka dard ati sunder dhang se vyaqt kiya Hai kavi nay , ek ek shabd Dil ko touch karta hai

Leave a Reply