« »

सहजता यही है

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Uncategorized

सरलता रही है तरलता रही है
सरल और तरल बन सरिता बही है

जीवन की सरसता यही पर कही है
प्रफुल्लित हुआ मन सहजता यही है

करम ही धरम है करम की बही है
शिथिल सा रहा जो ईमारत ढही है

सदा वह मरा है जो जरा भी डरा है
निडरता जहाँ पर सफलता वही है

नरम है गरम है भरम ही भरम है
गगन से क्षितिज है इधर तो मही है

लगन है अगन है मगनमय जीवन है
ऋतु है शरद की कही अनकही है

2 Comments

  1. NARESH dhawan says:

    Bahut badia aap ki kavitaon main ab adhik gahanta dikhai deti Hai ,Bhai sahib at i sunder

    • Rajendra sharma "vivek" says:

      प्रतिक्रिया और मूल्यांकन के लिए धन्यवाद

Leave a Reply