« »

हर गुल में***

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

तुझ पर सब की महरबानी देखता हूँ
…तेरी आँखों में जवां कहानी देखता हूँ
…….ख़िज़ाँ से क्या ग़रज़ भला .आँखों को
…………मैं हर गुल में तेरी जवानी ..देखता हूँ

सुशील सरना

One Comment

  1. sushil sarna says:

    aadrneey Shubham Sharma jee prastuti ko apnee snehil prashansa se maan dene ka haardik aabhaar.btaee gayee rachna ko avshay pdhne kee kosish kroonga. sadar…

Leave a Reply