« »

ज़िंदगी की जंग

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

ज़िंदगी की जंग अकेले ही लड़ रहा हूँ।
क्या सभी अकेले ही लड़ते हैं
मुझे नहीं मालुम है।
मुझे ये भी नहीं मालुम
कि मैं जीतूँगा या हारूँगा ।
बस एक जीतने की चाह है
शायद मिल जाए एक जीत मुझे भी।

Leave a Reply


Fatal error: Exception thrown without a stack frame in Unknown on line 0