« »

‘उम्मीदी – नाउम्मीदी’

1 vote, average: 1.00 out of 51 vote, average: 1.00 out of 51 vote, average: 1.00 out of 51 vote, average: 1.00 out of 51 vote, average: 1.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

50-100 फ़ीट गहरे गड्ढे में गिरा हो कोई इंसानी बच्चा
या हाथी का बच्चा…
तबाहीदार भूकंप से धराशायी हुए टनों मलबे में छुपी
किसी धड़कती नब्ज़ का कोई करिश्मा…
अनिश्चित ऊंचाई पर खला में तैरते अंतरिक्ष यात्रियों के लौटने की
कोई ज़िन्दा उम्मीद…
देह के व्यापारियों के भेड़ियादार शिकंजे से बच के निकल
आने की गुंजाइश…

जाने क्यों छोटी सी दिखती हैं ये बातें, बड़ी ना-उम्मीदी के सामने
क़र्ज़ पैसों का या जज़्बात की उधारी..गले पे रखने लगती है जब आरी
क्यूँ निराशा बन जाती है ज़िंदगी की खला का ब्लैक होल
कि उसके क़रीब जाते ही खींच लेता है वो
और निगल जाता है…
इलज़ाम खुदक़शी का मज़लूम के सर पे गिर के
एक फंदे सा बन जाता है…

http://timesofindia.indiatimes.com/City/Bhopal/Harassed-by-loan-sharks-bizman-commits-suicide/articleshow/52019205.cms

My college classmate and friend Amol ended his life yesterday under severe pressure of debt. It’s a disturbing and disappointing act. But I always think…no one can take such drastic step out of choice so simply…

Since the news reached me in the morning, I just can’t keep myself away from brooding…as that much is in my periphery. I could vent out my feelings on this disheartening news of a life-loss in these words that i expressed in the above poem.

I request one and all to please don’t say any praise words, as that’s not at all the intention to post this time. You can comment with your views on the incident, in relation to the emotional conflict between hope and despair and ofcourse prayers for the departed soul.
Thanks!

2 Comments

Leave a Reply