« »

ये अहं के गुम्बद…..***

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

ये अहं के गुम्बद…..

ये अहं के गुम्बद ये थकी थकी सड़कें
बे-शज़र राहों पर बिजलियाँ ही कडकें
ये रेज़ा रेज़ा रिश्तों की दरकती दीवारें
मुर्दा से जिस्मों में दिल बेजान धड़कें

सुशील सरना

2 Comments

  1. sonal says:

    A good poem sir.

  2. sushil sarna says:

    aa.Sonal jee thanks for ur sweet comment.

Leave a Reply