« »

झोलों में बारूद भरा है घर में पाव न आटा है।

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

घर के अंदर घर के दुश्मन सरहद पर सन्नाटा है।
याद रखो घरवालों ने ही घर को हरदम बाँटा है ।
दुश्मन देता धौंस हमेशा एटम की बमबारी का,
और चुभाता बीच जिगर के गद्दारी का काँटा है।
सजे एक से एक असलहे भिखमंगों के हाथों में
झोलों में बारूद भरा है घर में पाव न आटा है।
बादशाह दुनिया का बैठा दूर लड़ाता रहता है
बौनों को ललकार लगा कर तू लंबा तू नाटा है।
आपस में तलवार भाँजते चोट झेलकर गालों पर
ये न देखते कौन लगाता पर चुपके से चाँटा है।

2 Comments

  1. Vishvnand says:

    (Y) Vaah vaah, bahut badhiyaa;
    arthpoorn aur prabhaavii …!
    Commends …!

    Jaan ke bhii anjaan se baithe khaate jaate चाँटा है।
    sahate jaate जिगर बीच ham गद्दारी का काँटा है ….! 🙁

  2. Matty says:

    Och pedofiler är äckliga kräck, det håller jag med om. Till exempel Muhammed och många andra som gifter sig med småbarn i islams namn.Eller han som hade sex med sina barn i Borås och tvingade dottern att ha sex med en hund. Muslim han med. Bara att skriva till rätten och begära ut hag.linnarnadSå kom inte här och kasta sten när du sitter i glashus./FS

Leave a Reply