« »

अपनी तो ताफलक़ उड़ानें हैं।

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

अपनी तो ताफलक़ उड़ानें हैं।
उतनी ऊँची कहाँ मचानें हैं।
ख़त्म दौरे ख़िजां न होता है
और हमें गुल नये खिलाने हैं।
उनसे ये मसअला न हल होगा
वो ज़रा ज़्यादा ही सयाने हैं।
किसने बिजली से मुख़बिरी की है
किस जगह अपने आशियाने हैं।
पार शायद कि हम भी हो जायें
आजकल बह रहे बहाने हैं।

Leave a Reply


Fatal error: Exception thrown without a stack frame in Unknown on line 0