« »

“मुक्तक”

2 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

***********************************************

कर ही डालो अब कुछ ऐसा, जरा लीक से हट के ही,
और नहीं तो हो जाएँ कुछ, ताजे लटके-झटके ही,
छुट्टी का दिन बड़ी बोरियत,कुछ तो दिल में हलचल हो ,
आ जाओ कुछ पल को ही बस, चाहे भूले-भटके ही ।

***********************************************

हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰)

***********************************************

One Comment

  1. Vishvnand says:

    Lovely delight …! 🙂

Leave a Reply