« »

कोपलें

2 votes, average: 3.50 out of 52 votes, average: 3.50 out of 52 votes, average: 3.50 out of 52 votes, average: 3.50 out of 52 votes, average: 3.50 out of 5
Loading...
Uncategorized

मिटटी खोद कर अपनी ..
जड़ें निकालनी है तुम्हारी ..

की, खबर नहीं होती कब?
मौसम बदल जाता है, और
मैं बरस जाती हूँ…
फिर …
धरती का सीना चीर कर,
निकल ही आती हैं कोपलें
तुम्हारे प्यार की….

2 Comments

  1. Preeti says:

    wonderful poem dear…you can share your poem at Saavan.in

Leave a Reply