« »

मोम मगर दिल उनका ठण्डा यूँ कि सख़्त पत्थर जैसा

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

मोम मगर दिल उनका ठण्डा यूँ कि सख़्त पत्थर जैसा
कहाँ प्यार की गर्मी बाबा लगे बरफ़ के घर जैसा

अपनापन हो जाय अजूबा बनें अजनबी सारे लोग
ना बाबा ना नहीं बनाना हमको गाँव शहर जैसा

बतलाते हैं मायानगरी ये अपनी दुनिया ठहरी
नहीं हक़ीक़त वैसी इसकी दिखता है मन्जर जैसा

आज तवाफ़े गुलशन में तू बिलकुल मेरे पास लगी
चूमा शोख कली ने झुक कर मुझको तेरे अधर जैसा

अक्सर क्यों होता है ऐसा रहते वो हालात नहीं
दिखलाया जाता टी वी पर खबरों में दिन भर जैसा

Leave a Reply