« »

अपने वज़ूद की ख़बर …

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

अपने वज़ूद की ख़बर …

अपने वज़ूद की ख़बर ….हम इस तरह देते हैं 
मुट्ठी में रेत उठाकर उसे हवा में उड़ा देते हैं

क्या हुआ जो इस उम्र में .हम बे-समर हो गए
ये शज़र आज भी गुज़री बहारों की हवा देते हैं

अब लबों पे हंसी भी …पैबंद सी नज़र आती हैं
जाने लोग कैसे आँखों में नमी को छुपा लेते हैं

क्या कहा चिलमनों में कि लोग बहकने से लगे
हम भी बेजुबानों की तरह ..पैमाना उठा लेते हैं

जागते रहे तमाम शब् हम .उसके इंतज़ार में
बार बार जलाकर हम चरागों को सजा देते हैं

सुशील सरना

4 Comments

  1. Reetesh Sabr says:

    अपने वज़ूद की ख़बर ….हम इस तरह देते हैं
    मुट्ठी में रेत उठाकर उसे हवा में उड़ा देते हैं

    अब लबों पे हंसी भी …पैबंद सी नज़र आती हैं
    जाने लोग कैसे आँखों में नमी को छुपा लेते हैं

    बहुत खूब सरना जी!

  2. Vishvnand says:

    Bahut khoobsoorat see yahaan aapne vajood ke khyaalon ko havaa dii hai….
    hardik abhinandan ….!

    • sushil sarna says:

      aadrneey SIR jee rachna par aapkee snehil upasthiti ne rachna ko nayee oonchaaee prdaan kee hai….aapkee is madhur prashansa ka tahe dil se shukriya….patal pr aapkee anupasthiti khaltee hai…I miss u sir

Leave a Reply