« »

~ रीत को…रीत से ~

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

इस दोस्ती का तो लुत्फ़ यही है
रीत है रीत से कोई उफ़ नहीं है

वक़्त के सागर से कुछेक छींटे
बेहतर और दूजा तार्रुफ़ नहीं है

मेरे नाम मिला ये बेबाक़ आईना
साफ़ जो सीरत कोई उर्फ़ नहीं है

आसमान से उतरी सुलझी नेमत
बदरिया अज़ाबी ज़ुल्फ़ नहीं है

मिले मेरी यारी अल्फ़ाज़ के परे
दुनियाबी सा जिसमें हर्फ़ नहीं है

~ सब्र रीत

Leave a Reply