« »

आज के कवि

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

आज के कवि
दो चार लाइने क्या सुना देते हैं
दो चार सौ यों हीं कमा लेते हैं।
अगर करना हो कविता पाठ
तो हो जाते हैं उनके ठाठ ।
हमने सोचा-
क्यों न “कवि डिप्लोमा कोर्स” चलाया जाय
वेरोजगार नोजवानों को रोजगार दिलाया जाय।
कविताएं कैसे बनाएँ कैसे चुराएँ
सबकुछ सिखाया जाय ।
और अंत में “डिग्री” देकर
उन्हें भी आशिर्बाद प्रदान किया जाय।

One Comment

  1. Harish Lohumi says:

    कविताएं कैसे बनाएँ कैसे चुराएँ…. वाह ! युक्ति तो गज़ब की है आदरणीय !

Leave a Reply


Fatal error: Exception thrown without a stack frame in Unknown on line 0