« »

बन गयी एक ग़ज़ल सोच लो…

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Uncategorized

बाल की खाल गर नोच लो,
बन गयी एक ग़ज़ल सोच लो .

है ज़माना बहुत ही अलग,
हम वही हैं फ़कत सोच लो .

उनको चलना अकड़कर खला,
खुश हैं अब देखकर लोच लो .

कुछ कदम ही चले थे मगर,
आ गयी पैर में मोच लो .

अब कहें भी तो कैसे कहें,
अब छुपाएँ तो क्या सोच लो .

* हरीश चन्द्र लोहुमी

Leave a Reply