« »

***किस किरदार को …..***

2 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

किस किरदार को …..

किस किरदार को मैं जियूं किस किरदार को छोड़ दूँ

..मिट सके न गम जहां मैं …….उस मैख़ाने को तोड़ दूँ

……एक दिन बरसेगी रहमत ….इस आस पर ज़िंदा हूँ मैं

………डर के तकलीफों से खुदा ..भला तेरा दर कैसे छोड़ दूँ

सुशील सरना

4 Comments

  1. Vikas Rai Bhatnagar says:

    Bahut khuub Sushilji…

    आहन नहीं क़ि जिधर चाहे मोड़ दीजिये,
    शीशा हूँ, मुड़ सकता नहीं भलेई टोड़ दीजिये।
    पत्थर तो रोज़ ही गिरते हैं आँगन में,
    हल इस का यह नहीं कि घर छोड़ दूँ।

  2. sushil sarna says:

    rachna par aapkee kaavyatmak pratikriya ka hardik aabhaar aa.Vikas Rai Bhatnagar jee

  3. Vishvnand says:

    Bahut badhiyaa ahsaas
    bin taareef kiye kaise chod duun….!
    Hearty commends

  4. THE LAST HINDU says:

    किस किरदार को मैं जियूं किस किरदार को छोड़ दूँ …Kya baat hai Sir ji, bahut Badiya…

Leave a Reply