« »

बस है एक उम्मीद

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

भूखे को रोटी की
हंस को मोती की । बस है एक उम्मीद
निर्धन को धन की
निर्बल को बल की । बस है एक उम्मीद
भिखारी को भिक्षा की
विध्यार्थी को शिक्षा की । बस है एक उम्मीद
तोता को मैना की
रोता को चेना की । बस है एक उम्मीद
जोकर को हँसाने की
ठग को फँसाने की । बस है एक उम्मीद
दुल्हन को पिया की
अंधेरे में दिया की । बस है एक उम्मीद

2 Comments

  1. Vishvnand says:

    Good one liked it….

    Aur bhii apanii rachanaayen post karenge,
    anya members kii bhii post kii huii rachnaaye padhenge aur unpar apne comment aur ratings jaroor denge
    Bas yah bhii hai aapse ik ummeed ….!

  2. kusumgokarn says:

    Very well experessed straight from the heart with choice words.
    Keep it up. Kusum

Leave a Reply


Fatal error: Exception thrown without a stack frame in Unknown on line 0