« »

डर लगता है अब

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

अब कांटो से नहीं, फूलो से डर लगता है ,
मुझे दुश्मनों की जगह दोस्तों से डर लगता है ।

आग में जलने की तो आदत सी हो गयी है ,
डर तो अब मुझे, बस, धुओं से लगता है ।

अब मझधार नहीं, किनारो से डर लगता है ,
पराय क्या, अब तो मुझे अपनों से डर लगता है ।

मरने का डर नहीं, अब तो जिन्दा रहने से डर लगता है ,
मुझे तो अब उसकी परछाई से भी डर लगता है।

अब भूलने का डर ना रहा ,
कमबख्त याद आ जाने का डर लगता है

अंधेरो में रहने की तो आदत सी हो गयी है मुझे,
अब तो डर उजालों से लगता है |

4 Comments

  1. Vishvnand says:

    abhivyakti aur rachanaa man bhaayii,
    aur bhii apanii rachanaaye share kiijiye aur anya members kii bhii post kii huii rachanaaye padhiye aur unpar apane comments aur rating deejiye, yahii to yahaan rachanaa share karne ke passion kaa udyeshya hai,…hai naa …!

  2. anil dhakre says:

    dil ko ccho gayi bahut achcha

  3. Dhiraj Kumar says:

    han bilkul @vishvnand sir
    thanks to u both @ anil dhakre

  4. raghav says:

    itna mat daro verna zindgi nark ho jayage dar se badhkar to umeed ka jaha hota hai kyoki dar ki rah me insan apne aap ko hi kho deta hai

Leave a Reply