« »

एक ख्वाइश

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

इन बारिश की बूँदों मे, एक बूंद मेरे भी हिस्से आए
सावन के मौसम मे, कोयल मुझे भी एक गीत सुनाए
चाँद की रोशनी मे, एक किरण हो मेरे नाम की
सुबह का सूरज, मुझे अपने हाथों से जगाए

मंदिर की पवित्रता मे, एक मेरी भी घंटी बजे
दुनिया के चमन मे, एक मेरा भी फूल सजे
समुंदर की मौजों मे, एक मेरी भी लहेर उठे
धडकते दिल मे, एक धड़कन हो मेरी वजे

उन ज़िंदगी की सांसों मे, एक सांस जुड़े तेरा
इन्द्रधनुष के कमान मे, एक रंग हो मेरा
नींद मे मैं देखूँ, एक प्यारा सा सपना
और आंख खुले तो देखूँ, बस अपना ही सवेरा

2 Comments

  1. Vishvnand says:

    Kyaa baat hai, badhiyaa rachnaa aur manbhaavan abhivyakti,
    A very versatile attempt by you in Hindi poetry no doubt …
    Hearty commends …!

    Vaah ye kwaahishen bhii aiseen ki padhkar dil dole
    aur ab hamaari kwaahish ki aap aur bhii yuun naii naii rachnaayen likh kar share karate rahiye
    aur rachanaa rachane kaa nirmal aanand lete aur yuun hame bhii dete rahiye….! 🙂

    • Viju says:

      Sir, aap hee to meri prerena hain
      Aap hee se seekha hai 2 shabd jodna
      Ab ye to thee meri ek choti si kwaish
      Yeh pyara sa silsila, kabhi na todna

Leave a Reply