« »

माली

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

 

मैने अक्सर मालियों को वेपारवाह देखा है।

इसलिए जुगनुओं को टूटते तारो में देखा है।

गर रखो इनका थोड़ा ख्याल,

चाँद-तारों में बदलते भी देखा है।

नासमझी में मालियों को लहरते भी देखा है

इसलिए मासूम सपनों को बिखरते देखा है।

अरे! नसमझो समझो

हमने अच्छे अच्छों को गुजरते देखा है ।

Leave a Reply


Fatal error: Exception thrown without a stack frame in Unknown on line 0