« »

***हुनर इंसान बनाने का ….***

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

हुनर इंसान बनाने का ….

हुनर इंसान बनाने का .खुदा को आता है

..जान बख्शता है वो जिस्म को सजाता है

….ऐ खुदा अपने इंसान का हुनर भी देख ले

……करके चोट पत्थर पे …वो खुदा बनाता है

सुशील सरना

4 Comments

  1. adhakre says:

    waah! kya baat hei, bahut khoob.

  2. Vikas Rai Bhatnagar says:

    What a perspective…very nice…

Leave a Reply