« »

रंगो से तू खेल होली , क्यों रहा चुप -चुप है ?

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Uncategorized


छंद से जीवन भरा ,
आनंद से जीवन भरा
स्नेह का यह कन्द ले लो
सदभावना दे दो ज़रा

चाँदनी मधुकामनी
अब दे रही खुशबू हमें
तुम चले हो छोड़ कर
मुह मोड़कर धड़कन थमे
हम बुलाये तुम न आये
सोच कर कुछ मन डरा

होलिका बन जल रही है
दस दिशाए छल रही है
गल रही है भावनाए
आशाये मन कि ढल रही है
तुम बसे हो प्यार में ,
विश्वास को कर दो हरा

भाव के भावार्थ है
परमार्थ के कई रूप है
रंगो से तू खेल होली
क्यों रहा चुप -चुप है ?
रंग से रंगीन हुआ मन
बिन रंग के जीवन मरा

One Comment

  1. Sumit Paul says:

    Aadarniya Rajendra ji,

    Sundar kavita hai. Holi ka marm iss kavita se ujaagar hota hai. Holi ke shubhaavsar par yah antarnihit bhavna hai ki sab ka jeevan rangmay ho aur saari srishti rangon se sarabor ho.

    Hindi ke drishtikon se ek sujhaav hai: Holika-si. ‘Saa’ aur ‘see’ ke Beech mein hyphen dene ka chalan lagbhag samaapt ho gaya hai, joh dukhdaayee hai. Kripaya iska dhyaan rakhein.

    Punah Happy Holi

    Sumit Paul, Poona

Leave a Reply