« »

सिनेमा की टिकटें

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

तुम पढ़ते,
तो किताबों के गट्ठर में
एक दो किताबें
मैं भी लिखता तुम्हारे लिये।
तुम देखते,
तो गली के नुक्कड़ पे
सुबह शाम बैठा
मैं भी दिखता तुम्हारे लिये।

मैं भी लाता सिनेमा की टिकटें खरीद कर।

तुम हँसते,
खुश होते मेरे होने से
लड़ते मुझसे मेरे समय के लिए
तो मैं हारता तुम्हारे लिये।
युद्ध करता अन्दर
जीतता मैं खुद से
बहुतों का करता सर कलम
और मारता तुम्हारे लिये।

मैं भी लाता सिनेमा की टिकटें खरीद कर।

4 Comments

  1. S N SINGH says:

    premabhivyakti me bahuton ko maarne ka vrat zara vipareetarthak laga!

  2. Vishvnand says:

    Vaah vaah bahut khuub posting avm presentation … bhaav-arth bharii prabhaavi panktiyaan … Bahut man bhaayii
    aaj sach cinemaa kii tikiten khareed kar laanaa hi jaise ban gayaa hai pyaar kaa paimaanaa ….!

  3. Praveen says:

    Ati sundar…ati prabhavi…ati bhavpurn…aur yahan ati bhi achchi lag rahi hai… 🙂

    Welcome back after long time Vikash bhai… 🙂

Leave a Reply