« »

तेरा एहसास मन मे सदा हरा रहे

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

maa
तेरा एहसास मन मे सदा हरा रहे
स्मृतियों से तेरी जीवन ये भरा रहे
जन्नत से कम नहीं है आँचल तेरा
माँ का साया बिना बेनूर ये धरा रहे
सुरेश राय ‘सुरS’

(चित्र गूगल से साभार )

2 Comments

  1. s n singh says:

    bahut khoob. You made me also say-
    नियाजमंदी ए क़ुदरत हुई अयाँ यारों
    ज़मीं पे जाके प्रकट तब हुई है माँ यारों।

    कि कैसी नेमते कुदरत भला है माँ होती
    जो है अजन्मा उसे हो पता कहाँ यारों।

    • Suresh Rai says:

      बहुत बहुत धन्यवाद सिंह जी .
      “माँ है तो जहाँ है “

Leave a Reply