« »

उलझन में पड़ गया हूँ ….! (Geet)

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Podcast

उलझन में पड़ गया हूँ ….!

उलझन में पड़ गया हूँ, ख़ुद ही समझ न पाऊँ,
मेरे दिल की धड़कने मैं, क्या गाऊँ क्या सुनाऊँ…….!.

हमसब का दिल है गहरा, जैसे अथाह सागर,
सबकुछ छिपा यहीं है, अपने ही मन के अन्दर,
हीरे हैं मोती भी हैं, इन्हें खोज क्यूँ न पाऊँ,
मेरे दिल की धड़कने मैं, क्या गाऊँ क्या सुनाऊँ…….!.

करते नहीं भरोसा इक दूसरे पे क्यूँ कर,
बेकार लड़ते मरते, सुंदर सी इस जमीं पर ,
मानव के गर्व का घर खाली न क्यूँ मैं पाऊँ,
मेरे दिल की धड़कने मैं, क्या गाऊँ क्या सुनाऊँ…….!.

क्यूँ झूठ बोलकर हम, देते हैं ख़ुद को धोखा,
यूं झूठ बन गया है, सच से भी और सच्चा,
बुनियाद जो बुरी है, उसे खोद क्यूँ न पाऊँ,
मेरे दिल की धड़कने मैं, क्या गाऊँ क्या सुनाऊँ…….!.

क्यूँ भूलते चले हम, इंसानियत का ज़रिया,
क्यूँ बेचते चले हैं, अच्छी नियत का पहिया,
ये कटी पतंग की मैं, क्यूँ न डोर खींच पाऊँ,
मेरे दिल की धड़कने मैं, क्या गाऊँ क्या सुनाऊँ…….!.

क्यूँ न गीत लिख सका मैं, अबतक कोई भी ऐसा,
जो हर ह्रदय में भर दे, आदर्श, जोश नारा,
सच्चाई की डगर पर, हर दिल को मैं मिला दूँ,
मेरे दिल की धड़कने मैं, क्या गाऊँ क्या सुनाऊँ…….!.

ये सब जो चल रहा अब, कुछ भी समझ न आए,
बेकार घर उजड़ते, कितनों की जान जाए,
आतंकवादियों को, कैसे खुदा दिखाऊँ,
मेरे दिल की धड़कने मैं, क्या गाऊँ क्या सुनाऊँ…….!..

उलझन में पड़ गया हूँ, ख़ुद ही समझ न पाऊँ,
मेरे दिल की धड़कने मैं, क्या गाऊँ क्या सुनाऊँ…….!.

 

” विश्व नन्द “

7 Comments

  1. siddhanathsingh says:

    sundar pravahpoorn rachna

  2. kusum says:

    Problem is that those who should listen and learn a lesson are not doing so.
    Anyway, carry on writing for your own heart’s comfort and that of readers like us.
    Best wishes, Kusum

    • Vishvnand says:

      Thanks for the comment which indeed is very considered. Penning feelings however does relieve & give 50% satisfaction that one has not just kept quiet but expressed what he feels & experiences in the situation, … appropriate actions/activities can & do evolve thereafter …. 🙂

  3. Delia says:

    di&b:tsp;nbonjour déjà bravo pour ce petit logiciel très pratique et je me demandait si une option upnp style XBMC serait possible (pour avoir accès a mycinema depuis la freebox par exemple) cela serait super pratique , encore bravo.

Leave a Reply