« »

पुरखों का ॠण

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

IMG_20130929_090835पुरखों का ॠण पितृपक्ष मे यूं उतार दो
कागों को भोज अर्घ मे जल की धार दो
मिलेगी संतृप्ति उनको आशीष आपको
गर घर के जिन्दा बुजुर्गों को भी प्यार दो
सुरS

(चित्र गूगल से साभार )

5 Comments

  1. kusum says:

    Very appropriate thought.More apt to care for the living besides worshipping the dead elders.
    Kusum

  2. SN says:

    argon ko arghyon likhen to kaisa rahe! rachna bahumuly hai galti se bachna aavashyak!

    • Suresh Rai says:

      आपकी सलाह बहुमूल्य है सर. हार्दिक आभार

      • Suresh Rai says:

        जी सर मुझे समझ मे आ गई आपकी बात. आपकी पारखी नजरों को नमन

Leave a Reply