« »

हम तो मस्त हो लिए……! (भक्तिगीत)

3 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 53 votes, average: 4.33 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Podcast

स्व. श्री सचिनदेव बर्मन दा के रचे सुन्दर फिल्म गीत ” हम हैं राही प्यार के” की तर्ज़ पर उभरा हुआ यह मेरा इक पुराना भक्तिगीत इसके नए audio सहित सादर करने में बहुत खुशी महसूस कर रहा हूँ ….

 

.

हम तो मस्त हो लिए……! (भक्तिगीत)
.
हम है राही प्यार के, हम तो मस्त हो लिए,
“नाम” में प्रभु के हम, विश्वमन में हो लिए,
“नाम” में प्रभु के हम, मस्त हो के जी रहे……!
.
चिंता कुछ हमें नहीं, ना हैं हम अस्वस्थ भी,
प्रभु के भेजे काज हैं, और है पास वक्त भी,
प्रेमद्रष्टि  से ये सब जग निहारते चले,
 “नाम” में प्रभु के हम, विश्वमन में हो लिए,
“नाम” में प्रभु के हम, मस्त हो के जी रहे……!
.
भक्ति में ये शान्ति और मन में है आनंद सा,
प्रभु के “नाम” का नशा, जग लगे है स्वर्ग सा,
देहबुद्धि के परे, आत्मबुद्धि से जुटे,
आत्मज्ञान में रमे,
“नाम” में प्रभु के हम, विश्वमन में हो लिए,
“नाम” में प्रभु के हम, मस्त हो के जी रहे……!
.
विश्वमन ही शक्ति है, विश्वमन ही ज्ञान है,
सूक्ष्म से अनंत तक विश्वमन ही व्याप्त है,
सत्य शिवम् सुन्दरम, विश्वमन ही तो है,
विश्वमन का स्पर्श हम, भक्ति में ये पा रहे,
 “नाम” में प्रभु के हम, विश्वमन में हो लिए,
“नाम” में प्रभु के हम, मस्त हो के जी रहे……!
“नाम” में प्रभु के यूं, मस्त हो के गा रहे…..!
.
                                       ” विश्व नन्द “

12 Comments

  1. kusum says:

    Mast joshila song. But sorry I could not get to listen to it.
    Kusum

    • Vishvnand says:

      Thanks so very much for the comment.
      I feel sorry that you are not able to hear the podcast. It must be a small technical problem. Hope you would have got it sorted out with your computer guide.

  2. bahut hi khubsurat geet hai
    hardik badhai

  3. S N SINGH says:

    vishvman yah shabd pahli baar dekh raha hun,ispe thoda prakash daliye kya reflect karta hai?

  4. Suresh Rai says:

    सूक्ष्म से अनंत तक विश्वमन ही व्याप्त है,
    kavi man se vishman tak.
    man ko bha gayee.

  5. Kanchana Selvakumar says:

    The spirit of rendition is as high as ever..I guess the earlier version had the keyboard accompaniment also along…soul soothing again :).

    • Vishvnand says:

      Kanchana, thanks so very much for your kind appreciation & encouragement. You are right, I have fallen back on my mood to enjoying singing songs along with playing harmonium as accompaniment which seem to be giving me more joy & satisfaction than the keyboard….. Such comments as yours received in sharing the posts & podcasts keeps the spirit & enthusiasm for the effort always renewed & joyous. 🙂

  6. sushil sarna says:

    bhakti ras kee anupam abhivyakti—purane geet men aik dm fit…is manbhavan prastuti ke liye haaaaaaaaaaaardik badhaaee SIR….ham ne jab ye geet suna, hm to aapke ho liye…..

    • Vishvnand says:

      Sushil ji, Aapkii aisee sundar aur protsaahanpar pratikriyaa kaa kaise shukriyaa adaa karoon samajh nahiin aataa.
      dil kush ho jaataa aur aise aur bhii naye naye prayaas karne utsaahit aur tatpar banaa rahataa
      Is tonic ke liye aapkaa tahe dil se shukriyaa…! 🙂

Leave a Reply