« »

फ़सल से काटे गये बंदे

2 votes, average: 3.50 out of 52 votes, average: 3.50 out of 52 votes, average: 3.50 out of 52 votes, average: 3.50 out of 52 votes, average: 3.50 out of 5
Loading...
Uncategorized

मुक्तक:-

पथरा गई सूख के आँखे घरवाले इतना रोये है
जाने कितने जिगर के टुकडे शय्या मौत की सोये है
फ़सल से काटे गये बंदे दोनो ही संप्रदाय के
नफरत के बीज़ देश मे हुक्मरानों ने ऐसे बोये हैं
सुरS राय

7 Comments

  1. SN says:

    शय्या ko सैया likhna theek nahin

  2. Vishvnand says:

    sateek prabhaavi posting hai iskee aapko badhaaii dete hain
    sach hai ye ki नफरत के बीज़ देश मे हुक्मरानों ने hii ऐसे बोये हैं
    aur usase bhii buraa ye hai ki power aur vote politics ke kaaran
    jo burii divide & rule policy apanaa rahe hain use aur bhii badhaavaa de rahe hain…

  3. bahut sateek or arthpurna

Leave a Reply