« »

एक दीवाना ऐसा भी

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

देखा हमने एक दीवाना ऐसा, बेपनाह रोते हुए
एक आस दिल मे लिये, अश्रु मोती खोते हुए

पूछा हमने सबब रोने का, उसे मनाते हुए
राज़ खोला उसने, हमको ये समझाते हुए

वादा किया है सनम ने, आज आने का ख्वाब मे
भीग न जाये दामन उनका, अश्कों के तालाब मे

अश्कों की किस्मत है, आज नही तो कल बहना है
बहाकर इन्हे जगह बना लूं, उन्हे सुबह तक रहना है

अश्क तो मेरे अपने है, कल फिर भर आयेंगे
जगह नही थी अखियों मे, वो तो न कह पायेंगे

इश्क की पहली आजमाइश मे, उन्हे नही खोना है
गर आये न वो ख्वाब मे, तब भी तो मुझे रोना है

सुरS

6 Comments

  1. S N SINGH says:

    kismat aur aas likhiye galat spelling achchhi nahi lagti

  2. Vishvnand says:

    rachanaa ka andaaj bahut man bhaavan aur badhiyaa hai
    kuch galat chape shabdo ko sudhaarnaa rachnaa ke star ke liye jaoori hai

    sudhaar sujhaav
    हुये = हुए, आश = आस, किश्मत = किस्मत, लुं = लूँ

  3. Suresh Rai says:

    sukriya sir ji. galtiyon ko thik kar liya hai maine , punah avlokan kar anugrahit karen.

  4. rachna ke liye hardik bhadhai..

Leave a Reply