« »

न दे सके जबाव उनको

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

पडोसी मुल्क द्वारा घात लगाकर किये गये हमले के बाद यह कविता लिखी गई थी………

पड़ोसी मुल्क एक बार फिर, वबाल कर गये
शांति के सफेद  फूलों को, वो लाल कर गये

दिया नही जबाब हमने, पिछले गुनाह का,
फिर से गुस्ताखी वो, फिलहाल कर गये

हुक्मरानों के हुक्म की राह, देखती रही सैना,
शांति की कूटनीती का वो, मखौल कर गये

हम फितरत-ए-कातिल, आजमाते ही रहे,
खंजर वो पीठ घोंप, हमारा बुरा हाल कर गये

है हिन्द की रक्षा, जिनके लिये परम धर्म
जिन्दगी, वो जवान देश पे निहाल कर गये

बंधे रहे सीमा शर्तो की, बैडियों मे हम
न दे सके जबाव उनको, ये मलाल कर गये.

सुरS

2 Comments

  1. Vishvnand says:

    hamaare vartaav aur actions se bhii to ham padossii ko vartaav karanaa sikhaa sakate hain
    “laaton ke bhuut baaton se nahii maanate” ye unko sabak sikhaanaa jaroori hai magar ab tak ham to kaayar se hii pesh aa rahe hain .. lagataa hai unhe sikhaane aajkal hamarii hii galat aur kaayarataa kii neeti hai jo galat aur bhrasht vote bank kii neeti se prerit hai, isii kaa ye saaraa parinaam hai…!Is brasht sarkaar aur neeti ko badalanaa hii hogaa aur koii upaay nahiin hai ….!

    Rachanaa me vidit abhivyakti ke liye badhaaii….

    • Suresh Rai says:

      मैं आपसे पूर्णता: सहमत हुं सर जी. बहुत बहुत धन्यवाद

Leave a Reply