« »

व्यंग कविता:- फिर भी सेक्युलर

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

धर्म का कोयला झोक , सांप्रदादिकता की भट्टी जलाते है

आराम से बैठकर फिर, उसमे वोट की रोटी पकाते है

जात पात का नमक मिल, नफरत का आचार बनाते है

धर्मनिरपेक्षिता की चादर ओढ़,सत्ता का घी खाते हैं

देखो सुरेश, ये फिर भी सेक्युलर कहलाते हैं

सुरS

5 Comments

  1. Vishvnand says:

    achchii rachanaa, man bhaayii
    secular ko pooraa nirarthak betukaa circular banaa diyaa
    yahii hai itane varsh aazaadii me is raaj kartii party kii kamaaii
    isee shabd ko tod marodkar ye karate rahe raaj phoot daal kar bhaaii

  2. s n singh says:

    suckle(suck milk from the mother’s breasts) karte hain so sackular kahna zyda sahi hoga

  3. किसलय दुबे says:

    अच्छा लिखते हैं क्योंकि प्रभावशाली है।

Leave a Reply