« »

होश-ओ-हवास खा जाती हैं

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

किसी का उजाला, तो  किसी की रात खा जाती हैं,

किसी के आँसू, तो किसी का रुमाल खा जाती हैं,,

यह ज़िन्दगी क्या चीज़ हैं इसके आगे,

यह तो आसमानों से चूरा, पूरा चाँद खा जाती हैं!!

 

किसी की चुपी, तो किसी के अलफ़ाज़ खा जाती हैं,

किसी का दर्द, तो किसी की प्यास खा जाती हैं,,

ऐ खुदा, मुझे जितने जवाब लेने हैं तुझसे,

यह उन सरे जवाबो का सवाल खा जाती हैं!!

 

डाकुओं का माल खा जाती हैं, हसीनायो की चाल खा जाती हैं,

माशूक की हिचक, और माशूका का ऐतराज़ खा जाती हैं,,

उन्हें पता भी नही लगता, कि वो जिसके सहारे इस समुंदर में टिके हैं,

यह उन पत्रों पर लिखा, वो राम खा जाती हैं!!

 

किसी की आबरू, तो किसी की जान खा जाती हैं,

किसी का कल, तो किसी का आज खा जाती हैं,,

पीने वाला तो इसे, हर दम सच कहता हैं,

शायद यह सुनने वालो के, होश-ओ-हवास  खा जाती हैं!!

5 Comments

  1. siddhanathsingh says:

    bhasha me trutiyan akshamya hain,yadi aap likhte hain to fir shabd ka aadar karna seekhiye.For example it is not “daakuyon” but “daakuon” It is aabroo and not aabruh, hosho havaas is pulling and not streeling so sunanevalon ki ke sthan par sunanevalon ke likhna chahiye.

    • Nishant 'Aaghaaz' Tuteja says:

      @siddhanathsingh – dhnyavaad, main aage se shbado ka khyaal rakhunga. but i think title is correct because hosh-o-hawass is not the subject, and the thing which is subject is streeling.

      • siddhanathsingh says:

        maine “sunanevalon ki hosho havas” ki bajaay “sunanevalon ke hoshohavaas”likhne ki raay di thi jo bikul durust hai, hosho havaas sunanevalon ke hote hain sunanevalon ki nahin!

  2. sushil sarna says:

    bhaav achhe hain lekin rachna Singh saahib ke dwara ingit trutiyon men sudhaar maangtee hai-ashudhiyaan rachna ke bhaav aur prvaah donon men baadhak hai-kripya anytha n lain

Leave a Reply