« »

अजब कोठरी काल की अपनी आप मिसाल

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading ... Loading ...
Hindi Poetry

अजब कोठरी काल की अपनी आप मिसाल

इससे अपने आप को पाया कौन निकाल.

 

एक एक कर ये करे डायल सबके अंक,

नंबर सबका ही लगे हो न कोई मिस काल.

 

दौलतमंदी छांटते दिल के असल गरीब,

भीख कलन्दर मांगता मन से मालामाल.

 

रही चलन में अब कहाँ वफ़ा ,बाहमी चाह,

फ़क़त इश्तिहारों अंटी हर दिल की दीवाल .

 

बलिहारी जम्हूरियत प्यादे बने वजीर,

उड़न खटोले चढ़ चलें टेढ़ी टेढ़ी चाल.

 

 

2 Comments

  1. Vishvnand says:

    Vaah vaah atisundar rachana, har chand ik misaal
    Padhkar ye rachana huaa man “Mood” khush-haal…

    Hearty commends ….!

Leave a Reply