« »

***इन्कलाब के लिए…..***

1 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 51 vote, average: 4.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

इन्कलाब के लिए…..

 

 

इन्कलाब के लिए दिल में अलाव चाहिए 

 

सोच बदलने के लिए इक बदलाव चाहिए 

 

भ्रष्टाचार की अग्नि में है देश धू धू जल रहा 

 

इस वतन को आज फिर इक गुलाब चाहिए 

सुशील सरना

2 Comments

  1. Vishvnand says:

    bahut achche … par gulaab nahiin julaab chaahiye
    Is Vatan ke liye aaj to
    In saare lobhii bhrsht netaaon ko dene ke liye
    jahreelaa julaab chaahiye…. 🙂

Leave a Reply