« »

“जॉनी वॉकर”

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Uncategorized

जॉनी वॉकर मालिश के लिए बेच रहे थे तेल…
समझ ना आया कुछ बच्चों को उका ऐसा खेल…johnny-walker-
पूछ ही डाला आगे आकर क्या है इसका मेल…
जवाब उसका सुनने को बनाई बच्चों ने रेल…

बॉलीवुड की मायानगरी नहीं है कोई खेल…
संघर्ष को नहीं पाता है अच्छा-अच्छा झेल…
किया हो तुमने पीएचडी या हो तुम दसवीं फ़ेल…
क़िस्मत चमकी तो ही तुम खेल सकोगे खेल…

यहाँ सितारों को भी हो जाती है जेल…
ज़्यादा बकबक करो तो देते हैं डंडे पेल…
कोई नहीं है सुनता फिर हेल मोगेंबो हेल…
तेल नहीं जो बेचूँगा तो निकल जाएगा तेल…

4 Comments

  1. Vishvnand says:

    vaah, man bhaayaa Jonny Walker aur ye maalish kaa tel
    Sach hai yahaan fail waale hote hain pass aur pass wale ho jaate fail
    Bollywood mein bhii ab had se jyaadaa hai politicswaalaa hii ghinaunaa khel …. 🙁

    • P4PoetryP4Praveen says:

      जानकर मिली ख़ुशी, इस तेल को लिया आपने झेल…

      धन्यवाद दादा… 🙂

  2. S N SINGH says:

    but these lines of the song referred to herein are very apt
    tel mera hai mushqi
    ganj rahe naa khushqi
    jiske sir per hath fira dun
    chamke qismat uski

Leave a Reply