« »

मेरी अनमोल माँ

3 votes, average: 3.33 out of 53 votes, average: 3.33 out of 53 votes, average: 3.33 out of 53 votes, average: 3.33 out of 53 votes, average: 3.33 out of 5
Loading ... Loading ...
Anthology 2013 Entries, Hindi Poetry

 Vishwa ki har maa ko meri or se Mothers Day ki badhai or ye najrana-

मिट्टी की सोंधी खुशबु जैसी मेरी माँ,

भोली सी बच्चे की मुस्कान जैसी मेरी माँ,

 

उसके स्पर्श से गहरे से गहरा जख्म भी मुस्कराने लगे,

उसके आँचल में छुपकर डर भी दूर भागने लगे,

उसकी मीठी सी डांट, लगे जैसे शहद टपकती हो,

उसकी मार भी नींद की थपकी सी लगे,

 

कभी सतोलिया कभी घर घर खेलने वाली,

गुडिया जैसी मेरी माँ,

परियों की कहानियां सुनाने वाली,

खुद परी जैसी मेरी अनमोल माँ,

8 Comments

  1. prerna singh says:

    awsome poem …mam !!!

  2. kusumgokarn says:

    Many happy returns of Happy Mother’s Day.
    Kusum

  3. sushil sarna says:

    beautiful, beautiful and beautiful feelings

  4. Vishvnand says:

    Vishay par ati sundar abhivyakti
    bahut man bhaayii
    hardik badhaaii

Leave a Reply