« »

ढूंढ़ता था पहले ग़ज़ल अब मुझे ले आई है…………..

2 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 52 votes, average: 4.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

मैंने नहीं हालात ने ये कलम फिर उठाई है

ढूंढ़ता था पहले ग़ज़ल अब मुझे ले आई है

अब इन हवाओं से क्या गिला करते हो तुम

ताश के पत्तों कि ये मीनार किसने बनाई है

अभी खुद को समेटा नहीं तुझसे मैंने

फासलों से भी भला होती कहीं जुदाई है

ज़िन्दगी उलझी हुई नज़र आती है शाम से

नींद में फिर उसने ज़ुल्फ़ कोई उलझाई है

मैं तो कई बार डूब कर इश्क से निकला

है आग का दरिया ग़ालिब ने बात बनाई है

लिख सकें तो दास्ताँ मेरे दर्द की लिखे ज़माना

हाथ में सबके नश्तर मेरे खून की रौशनाई है

जब ज़हर खा लिया था मैंने दवा जान कर

पगली क्यों तू वक़्त ए आखिर ये दवा लाई है

दोस्त भी कहने लगे मुझे शराबी इनदिनों

हमने तो महज़ प्यास शराबों कि बुझाई है

ये किसी बेनूर शाम सा चेहरा ये बुझी आँखे

किसी भूले हुए मंज़र की याद तुझे भी आई है

शायर भी करते नहीं शायरों में शुमार मुझे

चाँद उन्हें दे कर सूरत तेरी उनसे चुराई है

मैं क्या गिला उसकी रहमतों का उस से करूँ

नहीं मिले जो तमाम उम्र वही तो खुदाई है

मौत के पहलु में सो जाता हूँ आज शकील

नींद का ऐतबार क्या हमे नींद कब आई है

7 Comments

  1. SN says:

    In my opinion had the gazal (or whatever it is) been a bit shorter it would have been more effective and engaging.May give a thought to the famous saying-brevity is the essence of wit.

    • shakeel says:

      सिन्हा जी नमस्कार,

      आप की राय का मैं पूरा सम्मान करता हूँ और आप यकीन जानिए किसी की
      ग़ज़ल कविता नज़्म रुबाई कुछ भी पढने से ज़्यादा आपकी अनमोल राय पढने
      में लुत्फ़ आता है और मैं काफी कुछ सिख रहा हूँ आपसे आपका ये प्यार और
      ये स्नेह ख़ुदा करे ऐसे ही मेरे साथ रहे।
      आपका
      शकील

    • poojs says:

      Sidhnath jee…

      Aap raay dene ke alaawa bhi kuch jaante hai? ya yahi aapka shauk hai? aap kisi bhi nazm ya gazal ka lutf uthane se jyada usame khaamiyaan dhundhte nazar aate hai… maano ki p4poetry par isi waaste hai aap… jara dil bada kariye aur fir padhiye… kya pata aap ko bhi isme khubsoorti nazar aa jaaye…

      Bura mat maniyega magar jo dil me tha so likh diya…

  2. Vishvnand says:

    Man bhaayii bahut aur lagii bhii badhiyaa
    jo nayii aapkii ye alag see gazal yahaan aaii hai

    badhaaii

  3. chandan says:

    bahut acche bhaav haiM

  4. pooja says:

    Shakeel jee…

    Hamesh ki taraf bahut khoob…

Leave a Reply