« »

कुण्डलियाँ

1 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 51 vote, average: 3.00 out of 5
Loading ... Loading ...
Uncategorized

राजनीति अब हो गई,कितना कुत्सित खेल
नीति के संग हो गया ,धूर्त भाव का मेल.
धूर्त भाव का मेल, सब खान पान में लीन.
उसमें बू आ रही, देखे न स्वयं की मीन.
उसके सच से बड़ी,अपनी मिथ्या आवाज.
शाशन हो नीति पर,बस यही है नीति राज. (1)

लोकतंत्र के खेल की ,बस इतनी सी बात.
अपने दिन को दिन कहो, उसके दिन को रात.
उसके दिन को रात,दे दो प्रमाण गंभीर.
फिर उस पर छोड़ दो , आरोपों के भी तीर.
आज लोक जीत का,बस है यही मूलमंत्र.
सेवा उनका काम,हम भोग लें लोकतंत्र. (2)

:- मनोज भारत

4 Comments

  1. sushil sarna says:

    true position u have mentioned in kundlees-badhaaee

  2. s.n singh says:

    rajneeti ka dekhiye kaisa kutsit khel.
    sang neeti ke ho gaya dhoort bhav ka mel.
    dhoort bhav ka mel leen sab khaan paan me.
    badboo apni rahe meen ke nahin dhyan me.
    sabke sach se hai badi nij mithya aavaaz.
    bahas satat ho neeti par aur aneeti ka raaj.

  3. Dr. Manoj Bharat says:

    Aap sabhi ka dhanyawad

Leave a Reply