« »

——— पाक तु नापाक ———

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

पाक तु नापाक ,पाक इरादों से कब बना /
देवी की कोख से ,जैसे शैतान जना /

तुझे हमने कभी गैर नही माना /
अपनेपन को न तुने पहचाना /
जान कर छोटा भाई ,हर बार माफ़ किया /
द्वेष तुने फैलाया ,दिल हमने साफ किया /
चाहा तुझे कितना अपना बनाना /
पाक तु नापाक ,पाक इरादों से कब बना /

दुखों में भी हम तेरे भागीदार होते /
दुश्मन जो तेरे साझीदार ना होते /
ह्रदयो को तुने किया है जार जार /
अपनों पर ही तुने किये है प्रहार /
आया ना तुझको रिश्ता निभाना /
पाक तु नापाक ,पाक इरादों से कब बना /

सम्रद्धि को रख ताक ,बम तु बनाता है /
गीदड़ हो कर शेर को कैसे धमकाता है /
काश्मीर के मुद्दे पर ना होगी कोई बात /
मानव अधिकारों की ना व्यर्थ कर खुरापात /
पूरा ना कर पायेगा ,अब ऐसा सपना /
पाक तु नापाक ,पाक इरादों से कब बना /

उदारता को हमारी मज़बूरी मान बैठा /
और दो दो हाथ करने की ठान बैठा /
कर ना मजबुर इतिहास दोहराने को /
दो पल ही काफी है तुझको मिटाने को /
दुनियाँ वालो जान लो ,फिर दोष ना लगाना /
पाक तु नापाक ,पाक इरादों से कब बना /
देवी की कोख से ,जैसे शैतान जना /

2 Comments

  1. Vishvnand says:

    Sundar arthpoorn maarmik rachanaa aur kataaksh
    apane is naapaak dusht bhai desh par
    hardik badhaaii
    Ab to ye spasht hai, hamare bujurgon ne tab vyarth me jaldii aur badii bhaarii galtii kii
    gar thodaa aur thaharate aur ladate rahate ekjoot ek bade bhaarat ko aazaadii miltii
    Yah naapakistaan banataa hii nahii sarv desh sarv dharm sambhaav kaa aajaad hotaa….
    aur kahaan naapakistan ke naapak iraadon aur POK ko ham itane saalon se bekaar ko sahate…..

Leave a Reply