« »

जय दुर्गा मैय्या……..

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

जय दुर्गा मैय्या, माता जय दुर्गा मैय्या,
महंगाई से गरीब की,पार लगादो नैय्या,
जय दुर्गा मैय्या……..
साल में छे ही सिलिंडर,मच गया है बवंडर, 
दूध का भाव भी निशदिन,बढ़ाता है भैय्या,
जय दुर्गा मैय्या……
भ्रष्टाचार में लीन हो,हर नेता सोये,
खेती करनेवाला, किसान है रोये,
जय दुर्गा मैय्या…..
समस्याओं की यहाँ तो, कोई गिनती नहीं,
इनसे हमें उभारो, करते बिनती यही,
जय दुर्गा मैय्या……
गरबे से नवरात्री, दीप से हो दिवाली,
भ्रष्टाचार दहन कर, भर दो झोली खाली,
जय दुर्गा मैय्या……. 
 

6 Comments

  1. shailesh singh pathani says:

    आई है नवरातरी सजा है माँ का दरबार
    माँ के दरबार में भक्तो की भीड़ है अपार
    करना दया आज माँ देना ये वरदान
    सातवे सिलंडर की जरूत न पड़ने पाए
    महंगाई न बड़े न बड़े पेट्रोल क दाम
    न ही सुनने में आये घोटालों का नाम
    घोटाले करने वाले आसुरों का तुम नाश कर दो
    ६ के १२सिलंडर करके गरीबों का भण्डार भर दो
    मेरे भारत में अब मैय्या ना मरे कोई किसान
    महंगाई में काबू करके सस्ते करदो सारे दाम
    आम आदमी बोल के मैय्या करे हमको कोई बदनाम
    भ्रष्टाचार करने वालों को मैय्या पहुच दो तुम शमशान
    इस नवरात्री में मेरी मैय्या और एक कर दो तुम काम
    कसब जैसों को फ़ांसी चड़ते देखे मेरा सारा हिंदुस्तान
    पूरा देश तेरे गुणगान करता है और करेगा गुणगान
    ‘शैलू’ की ये सब विनती पूरी कर रख तुम उस का मान
    जय माँ दुर्गा , जय मैय्या काली बोल रहा है हिंदुस्तान
    सब की विनती सुन लो मैय्या सब पूरे कर दो काम
    ,शैलेश सिंह पथनी ‘शैलू’
    देवास म.प्र.

  2. SN says:

    achchhi prarthna, hope, jagdamba grants it.

  3. Rajdeep says:

    Jai Mata Di
    Beautiful poetry

  4. H.C.Lohumi says:

    सामयिक आरती ….
    जय हो !!!!

  5. rajdeep bhattacharya says:

    Great Poem

  6. parminder says:

    आज का सच, माँ पता नहीं कब आ कर कष्ट निवारण करेगी…

Leave a Reply