« »

***उसके बिना…***

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading ... Loading ...
Hindi Poetry

उसके बिना हर शाम अनजान लगती है

बिन भंवरों के महक भी बेजान लगती है 

मुशिकल है भूलना उस स्पर्श के एहसास को 

तनहाई में इक इक सांस तूफ़ान लगती है 

 

सुशील सरना 

4 Comments

  1. SN says:

    bahut khoob,chaar panktiyan hi deevaan lagti hain.

  2. parminder says:

    Very romantic. Nice.

  3. sushil sarna says:

    shukriya Parminder jee prashansa ka

Leave a Reply