« »

पहले सीखो

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

पहले सीखो

 

आगे बढ़ना हो,

तो पढना सीखो

 

ज्ञान लेना है तो,

गुरुभक्ति सीखो

 

जो पाना चाहते हो,

तो पहले वो देना सीखो

 

जो करना चाहते हो,

पहले वो सोचना सीखो

 

युद्ध में जाने से पहले,

युद्ध की तैयारी करना सीखो

 

चींटी की तरह,

गिर गिर कर उठाना सीखो

 

झूठ पर नहीं ,

सच  पर लड़ना सीखो

 

जीत के साथ साथ ,

हार  पे भी  हर्षित होना सीखो

 

उपलब्धि को बरकरार रखना हो,

तो घमंड त्यागना सीखो


8 Comments

  1. Vishvnand says:

    अच्छी शिक्षाप्रद सी रचना, मन भायी l इसके लिए बधाई
    हर इक को इसे खुद पर पहले अमल करने की बात है भाई ….

  2. U.M.Sahai says:

    सीखने की सीख देती सुंदर रचना, बधाई.

  3. arvind kharbanda says:

    good morals, nice start

  4. rajendra sharma "vivek" says:

    Dekho parakho aur seekho
    socho samjho aur likho
    dheeraj dhar kar achcha likho
    rakho dard par kabhi n cheekho

    • Dhiraj Kumar says:

      @rajendra sharma “vivek”, हम करेंगे कोशिस , न मानेंगे कभी हार |
      राजेंद्र भाई , “धीरज , धैर्य ” ही तो है मेरा हथियार |
      धन्यवाद

  5. parminder says:

    सुन्दर सीख देती रचना !

Leave a Reply