« »

प्यारा रक्षा बंधन

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry

प्यारा रक्षा बंधन

दूर रह कर भी होते पास भाई और बहन

बंधा एक डोर से रिश्ता ,होता और गहन 

मन से मन का मिलन ही इसका आधार

विश्वास के सहारे स्नेह की,बहे नित धार

 

दुआओं की चाशनी में लपेट मीठाई खिलाती

रक्षा सूत्र में प्यार और स्नेह के मोती पिरोती  

रोली अक्षत में सूर्य ,चन्द्र का तेज मिलाती

लेते भाई रक्षा की कसम,बहन राखी बांधती

 

एक दूजे को देते भावों का स्नेहिल उपहार

दोनों  के रिश्ते का सेतु  राखी का त्योंहार

आओं हम सब मिल कर करें अभिनन्दन

रिश्तों की गरिमा निभाता प्यारा रक्षा बंधन

 

संतोष भाऊवाला

8 Comments

  1. dr.o.p.billore says:

    भाई बहन के प्यार को दर्शाती सुन्दर रचना | हार्दिक बधाई |
    एवं रक्षा बंधन की भी आपको हार्दिक बधाई |

  2. Siddha Nath Singh says:

    avsaranukool rachna.

  3. Vishvnand says:

    सुन्दर भावपूर्ण रचना
    बहुत मन भायी , हार्दिक बधाई
    रक्षाबंधन की ये कल्पना और प्रथा , सच
    अपने धर्म और जीवन में कितनी भव्यता लाती ….

    • santosh bhauwala says:

      रचना आपको भायी
      त्योंहार का मजा दुगुना हो गया
      अतिशय धन्यवाद !!!

  4. Kusum Gokarn says:

    Hapy Raksha Bandhan Day.
    We need protection & security all the more during these terror stricken times.
    kusum

Leave a Reply