« »

कह कर मना किया है “शकील” अखबार वाले को…………

1 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 51 vote, average: 5.00 out of 5
Loading...
Uncategorized

सुबह सुबह अखब़ार देखा वो कभी ऐसा नहीं था
हर्फ़ कोई यूँ मेरी उंगली थामे तो चलता नहीं था

एक सफ़्हे पर कुछ तस्वीरें थी इंसानों की थीं शायद
हांथों में लिए कुछ मौत का सामन खड़े थे
देखा हुआ चेहरा था कभी चाय की दूकान पे कहीं
है वो कातिल, हर्फों ने कहा पहले ऐसा लगता नहीं था

फिर आगे बढ़ा तो देखा एक बूढी अम्मा का चेहरा
झुर्रियों में छुपती हुई अश्कों की बुँदे थी शायद
रोती थी सफ़ेद चादर देख कर बेटा था शायद उसका
उठाती थी उसको अब पहले सा वो भी उठता नही था

एक मासूम फूल सा चेहरा सड़क के किनारे दिखा
तस्वीर भी नम थी अखब़ार के आंसू थे शायद उस पर
कितने आरमान कितने ख़्वाब बिखरे थे साथ किताबों के
खिलौना था हाथ में उसके मगर वो खेलता नहीं था

कुछ सफ़ेद पोश लोग भी नज़र आये थे तस्वीरों में
ये वही हैं जो आग लगते नज़र आये थे पिछली बार
मैं भी नाराज़ हूँ उनसे मगर मैं इंसान ठहरा
और अखबार तो बेज़बान है वो खुद बोलता नहीं था

जलाकर घर गरीब का देखते नज़र आये कुछ लोग
बड़े से शहर में एक छोटा सा घर ही फिर जला
धुआं धुआं सा हर का चेहरा हो गया था अब तक
कितनी सच्ची कहानियाँ तो वो कभी कहता नहीं था

अब मुझे मालूम है कौन सी तस्वीर क्या खबर होगी
कहानियाँ तबाही की वो नहीं दूसरा कोई शहर होगा
कह कर मना किया है “शकील” अखबार वाले को
ख़बर वो नहीं उसमे जो में अब जनता नहीं था

3 Comments

  1. Siddha Nath Singh says:

    aaj ke haalat par zordaar tanz.

  2. Vishvnand says:

    वाह वाह क्या बात है, बहुत खूब
    “कह कर मना किया है “शकील” अखबार वाले को
    ख़बर वो नहीं उसमे जो में अब जनता नहीं था”

    बहुत भायी सारी style और गहन अंदाज़े बयाँ ये
    ऐसा अलग सा आप लिखें, मन आया आनंद बड़ा था . ..

  3. Aditya ! says:

    Loved the intensity

Leave a Reply