« »

जीवन और खुशी ….!

0 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 50 votes, average: 0.00 out of 5
Loading...
Hindi Poetry, Uncategorized

जीवन और खुशी  ….!

वह एक बड़ा  होनहार बेटा था
पिता का बचपन में ही स्वर्गवास हो गया था,
उसकी माँ ने ही अकेले उसे पाला पोसा था,
बहुत कष्ट उठा, पढ़ा लिखा कर बड़ा किया था .
उसने भी बहुत परिश्रम किया, आज वो बहुत खुश था,
आज इक बड़ी पदवी परीक्षा पास हो गया था
तुरंत घर जा कर उसने माँ को ये बताया .
तो माँ ने उसे बड़े प्यार से गले लगाया,
बोली “मैं बहुत भाग्यवान हूँ बेटा,
प्रभु का लाख लाख शुक्रिया, आज सा दिन दिखलाया,
तेरे जैसा प्यारा बेटा दिया, जो आज पदवी पास हो गया
सबसे खुशी का दिन है बेटे ये आज मेरे जीवन का ….!

बेटा बोला “ये कैसे माँ तुमने ही तो कहा था
कि जिस दिन मैं पैदा हुआ था,
वह तुम्हारे जीवन का सबसे खुशी का दिन था,
तो अब बताओ तुम्हारा सबसे खुशी वाला दिन है कौन सा.”

माँ की आँखों से सुख अश्रु छलक पड़े
वो बोली “बेटा जिस दिन तू जन्मा था
तब मेरे जीवन का वो दिन सबसे खुशी का दिन था.
आज तू इतना बड़ा और सयाना हो गया है,
कि मुझसे, अपनी माँ से पूछ रहा है
कि माँ तेरे जीवन का सबसे खुशी का दिन है कौनसा,
तो यही आज सबसे खुशी का दिन है मेरे जीवन का, बेटा.”

असली खुशी की और जीवन को निहारने की
क्या हो सकती है इससे बढ़कर परिभाषा.
अपने जीवन को यूं निहारने और खुश रहने
हम क्यूँ न हरदम सोच कर चलें  ऐसा ….!

” विश्वनन्द”

3 Comments

  1. kusumgokarn says:

    Happiest day for parents is when children show their gratitude & thankfulness for all that their parents have done for their upbringing & making them self-supportable.
    Kusum

    • Vishvnand says:

      @kusumgokarn,
      Thanks for the comment. You are absolutely right.
      But aren’t the grown up self- supporting children themselves the happiness of parents and their life’s worthy contribution. If children feel gratitude for parents for this then it is an added divine bonus which most parents do enjoy today……

  2. Aditya ! says:

    Masterpiece!! Thank you for writing this 🙂

Leave a Reply