« »

“नवदुर्गा”

2 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 52 votes, average: 4.50 out of 5
Loading ... Loading ...
Hindi Poetry
“नवदुर्गा”
***********
नवकल्प, नवखण्ड, नवग्रह, नवजागरण, नवजात, नवदीधिती, 
नवधा, नवमल्लिका, नवयुग, नवयुवक, नवयुवती, नवयौवन,
नवयौवना, नवरंग, नवरंगी, नवरत्न, नवरत्नी, नवरात्र, नववस्त्र , 
नवसर और अब अविस्मरणीय परमपूज्या आ रही हैं नवदुर्गा !
जिनके क्रमशः नाम हैं शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चंद्रघंटा, कूष्मांडा,
स्कन्दमाता, कात्यायिनी, कालरात्रि, महागौरी तथा सिद्धिदात्री,
जिनकी विशेष पूजा-अर्चना होगी कल से आरम्भ होगी नवरात्रि !
घट घट में घर घर में होगा वाचन-पाठन-श्रवण अत्युत्साहपूर्ण,
रामनवमी पर्यंत जो दिनांक १-०४-२०१२२ को ही होगा सम्पूर्ण !
शुभ मुहूर्त में घट स्थापन करके मंदिर-मंदिर में पूजन होगा, 
कन्या-बटुक पूजे जायेंगे, घर-घर में उनके लिए भोजन होगा !
दुर्गा सप्तशती नामक ग्रंथिकानुसार किया जाएगा मंत्रोच्चार,
जिसमें दिए ७०० श्लोकों के वाचन-श्रवण से होगा सुखद उद्धार !
यदि ऐसा संभव नहिं लगे किसी को तो अन्यथा भी है उपचार,
“प्राधानिक रहस्य” तथा “सिद्धकुंजिका स्तोत्र” में है पूरा सार !
इस सुविधा हेतु “दुर्गा सप्तशती” के पृष्ठ भाग में ये हैं मुद्रित,
इनके अल्पकालिक वाचन-पाठन से हो जाता है भाग्य उदित !
नौ दिनों में नवदुर्गा माताएं घूमेंगी-झूमेंगी-नाचेंगी घर-घर में,  
पुष्प-प्रसाद लखेंगी-चखेंगी घर-मंदिर के सजे-धजे पूजाघर में !
      ****************************  

 
                                                    “वैकृतिक रहस्य” 
                                                    ???????????
                                           <प्रकृति के मूल अवतारों का क्रम>
                                                    ========
                                               

                          !—————–अष्टादश-भुजा महालक्ष्मी ————!                  

                          !                             (मूल प्रकृति)                      !
                          !                                  !                              !
                          !                                  !                              !                              
                          ————————————————————
                          !                                  !                              !
                          !                                  !                              !
                   दश-भुजा महाकाली                     !                अष्ट-भुजा महासरस्वती 
                          !                                  !                              !
                          !                                  !                              !
                   
                    शंकर-सरस्वती                    विष्णु-गौरी                  ब्रह्मा-लक्ष्मी                                                 

                                 ऐं = बीजं           ह्रीं = शक्ति:       क्लीं= कीलकं      

                                                    =========                                               

                                        सिद्धकुंजिकास्तोत्र l
                                           ———
       दुर्गा-सप्तशती नामक पुस्तिका में जगदम्बा के तीनों स्वरूपों का क्रमशः प्रथम चरित्र, मध्यम चरित्र
एवं उत्तर चरित्र के शीर्षकों के अंतर्गत विधिवत वाचन-पाठन प्रदत्त है जिनमें नवार्ण मंत्र, न्यास-विन्यास,
प्रकृति-रहस्य आदि सहित लगभग १००० मंत्र- श्लोकादि समाविष्ट हैं जनके वाचन-पाठन में २-३ घंटे लग
जाते हैं l नवरात्र में ९ दिनों तक ऐसा करने हेतु हो सकता है आज की व्यस्त दिनचर्य्या में पूरा समय नहीं 
मिल पाए ! अतः इसके समाधान हेतु सिद्धकुंजिकास्तोत्र के बीज मन्त्रों के जप से सम्पूर्ण पाठ करने जैसा 
फल प्राप्य होता है और और यह प्रक्रिया मात्र आधे घंटे में समाप्य होती है l अतः समयाभाव की स्थिति में 
इसका पाठ, विशेषतः नवरात्रि-काल में सहजता से किये जाने योग्य है, जो निम्नप्रकार है :-
शिवजी पार्वती से बोले —        
हे देवी सुनो ! मैं उत्तम कुंजिकास्तोत्र का उपदेश करूंगा जिस मंत्र के प्रभाव से देवी का जप (पाठ) सफल 
होता है ll १ ll  कवच, अर्गला, कीलक, रहस्य, सूक्त, ध्यान, न्यास यहाँ तक कि अर्चन भी आवश्यक नहीं 
है ll २ ll केवल कुंजिका के पाठ से दुर्गा-पाठ का फल प्राप्त हो जाता है l यह (कुंजिका) अत्यंत गुप्त और 
देवों के लिए भी दुर्लभ है ll ३ ll  हे पार्वती ! इसे स्वयोनि की भाँति प्रयत्नपूर्वक गुप्त रखना चाहिए l यह 
कुंजिकास्तोत्र केवल पाठ के द्वारा मारण, मोहन, वशीकरण, स्तम्भानुर उच्चाटन आदि (आभिचारिक) 
उद्देश्यों को सिद्ध करता है ll ४ ll     
                   मंत्र :-
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे ll ॐ ग्लौं हुं क्लीं जूं सः ज्वालय ज्वालय ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल 
ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे ज्वल हं सं लं क्षं फट` स्वाहा ll इति मंत्रः ll              
         ****************************                     
विच्चे चाभयदा नित्यं नमस्ते मंत्र रूपिणि ll ५ ll धां धीं धूर्जटे: पत्नी वां वीं वूं वागधीश्वरी l क्रां क्रीं क्रूम’
कालिका देवी शां शूं में शुभं कुरु ll ६ ll हुं हुं हुंकार रूपिन्ये जं जं जं जम्भनादिनि l भ्रां भ्रीं भैरवी भद्रे 
भवान्यै ते नमो नमः ll ७ ll अं कं चं टम तं पं यं शं वीं दूं ऐं वीं हं क्षं धिजाग्रं धिजाग्रं त्रोटय त्रोटय दीप्तं
कुरु कुरु स्वाहा ll पां पीं पार्वती पूर्णा खां खीं खूं खेचरी तथा ll ८ ll सां सीं सूं सप्तशती देव्या मन्त्रसिद्धिं 
कुरुष्व मे ll इदं तू कुंजिकास्तोत्रम मंत्रजागर्तिहेतवे l अभक्ते नैव दातव्यं गोपितं रक्ष पार्वति ll यस्तु 
कुंजिकया देवि हीनां सप्तशतीं पठेत’ n तस्य जायते सिद्धिर$नन्ये रोदनं यथा ll
    इति श्री रुद्रयामlले गौरीतंत्रे शिवपार्वतीसंवादे कुंजिka स्तोत्रं सम्पूर्णं l  ll ॐ तत्सत’ ll
(मंत्र में आये बीजों का अर्थ जानना न संभव है, न अआवश्यक और न वांछनीय l केवल जप पर्याप्त है)
                                 ===============
 

10 Comments

  1. Vishvnand says:

    विषय पर उत्कृष्ट जानकारीपूर्ण और सुन्दर लिखी हुई रचना
    बहुत मनभायी
    हार्दिक धन्यवाद

  2. s n singh says:

    ise kahte hain suchna se ot prot uddeshyapoorn kavita.

  3. kanchana says:

    Thanks for presenting this. :-)

  4. sushil sarna says:

    अकल्पनीय शब्दों का समावेश रचना में निहित भावों को उजागर करता है -रचना मात्र धार्मिक न होकर ज्ञानवर्धक भी है-नवरात्रों के इन विशेष दिवसों में ऐसी रचनाएं दिल में आस्था के दीप जलाती हैं-इस ह्रदयग्राही प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई गोस्वामी जी

  5. rajendra sharma'vivek' says:

    Maa jagdambe ke rup avm shakti bhari kathaaye anant hai
    bataai gai jaankaari se navratri sadhanaa hogi jeevant hai

Leave a Reply